Wednesday, 4 March 2015

कोई मुझसे ये न पूछे

कोई मुझसे ये न पूछे, टूट के प्यार में क्या होता है
रूह बिना ज़िंदा रहता वो, जिसका प्यार ज़ुदा होता है
कोई मुझसे ....................................................
               सूने हो जाते  सन्नाटे, आंसू भी रोने लगते हैं
               दर्द भी दर्द से रो देता है, इतना दर्द उसे होता है
               कोई मुझसे ....................................................
आईने पहचान न पाते, जाने किसका अक्स दिखाते
तन्हाई भी खो जाती है, उसका हाल बुरा होता है
कोई मुझसे ....................................................
               चुप हो जाती है ख़ामोशी, नींद तो खुद ही सो जाती है
               जिसने हालत ऐसी कर दी, उसके लिए दुआ करता है
               कोई मुझसे ....................................................


                                                 -:रिशु कुमार दुबे "किशोर" :-